• India
  • Last Update 11.30 am
  • 26℃ India
news-details
अन्य राज्य

केंद्रीय संचार ब्यूरो नैनीताल क्षेत्र की ओर से कल ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’ के उपलक्ष में कार्यक्रम का आयोजन

रुद्रपुर। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अंतर्गत कार्यरत केंद्रीय संचार ब्यूरो नैनीताल क्षेत्र की ओर से कल ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’ के उपलक्ष में कार्यक्रम का आयोजन दिनांक 21 जून  को सुबह 6:00 से 7:00 बजे तक रुद्रपुर- काशीपुर हाईवे स्थित यूनिटी लॉ कॉलेज में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष में एक कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में योग के महत्व के बारे में जागरूकता के अलावे सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए जाएंगे। आज रुद्रपुर में एक संवाददाता सम्मेलन में बोलते हुए विभाग के भारतीय सूचना सेवा के अधिकारी राजेश सिन्हा ने बताया कि इस कार्यक्रम में लोगों को योग के महत्व के बारे में बताया जाएगा ताकि हुए अपने दिनचर्या में योग को अधिक से अधिक शामिल कर सकें। कार्यक्रम में मुफ्त में योग के टीशर्ट दिए जाएंगे तथा वहां योगासन का भी अभ्यास किया और कराया जाएगा ।संवाददाता सम्मेलन में यूनिटी लॉ कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ कुंदन सिंह राठौर ने कहा कि इस वर्ष का संदेश ” मानवता के लिए योग “है।

जैसा कि आपको ज्ञात होगा 27 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र के जनरल असेंबली केके 68 वें सत्र को संबोधित करते हुए माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने विश्व समुदाय से अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने का आह्वान किया था, जिसके परिणाम स्वरूप 21 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 193 सदस्यों ने रिकॉर्ड 177 समर्थक देशों के साथ 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने का निर्णय लिया । पहला योग दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया था।

श्रुति परंपरा के अनुसार हजारों वर्ष पूर्व भगवान शिव ने हिमालय के कांति सरोवर झील के किनारे सप्त ऋषियों को सर्वप्रथम योग का ज्ञान दिया था। बाद में इन्हीं ऋषी परम्परा ने पूरे प्राचीन विश्व को योग का ज्ञान दिया। करीब 5000 वर्ष पूर्व सिंधु घाटी सभ्यता और सरस्वती नदी सभ्यता, मिस्र समेत अन्य प्राचीन सभ्यताओं के मिले अवशेषों से पता चलता है कि इन सभ्यताओं में योग का महत्वपूर्ण स्थान था।

आज भी योग के लाभ के कारण इसका प्रयोग पूरे विश्व में लगातार बढ़ता जा रहा है।

मुंबई महाराष्ट्र की साहित्यकार श्रीमती शशि दीप को महादेवी वर्मा स्मृति सम्मान

अभिव्यक्ति की विभिन्न विधाओं पर पाठक का दृष्टिकोण!