• India
  • Last Update 11.30 am
  • 26℃ India
news-details
भोपाल

एकता का अभाव ही मध्यप्रदेश के पत्रकारों के विखंडन का मूल कारण:सैयद खालिद कैस

एकता का अभाव ही मध्यप्रदेश के पत्रकारों के विखंडन का मूल कारण:सैयद खालिद कैस

 

 

भोपाल। मध्यप्रदेश में यशस्वी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सरकार को लगभग 17/18वर्ष गुजर रहे हैं । भाजपा को मध्यप्रदेश में काबिज़ हुए 2023में 2दशक गुजर जायेंगे। 2018से मार्च 2020तक कमलनाथ सरकार की घोषणाओं को छोड़ भी दिया जाए तो 2003से वर्तमान समय तक मध्यप्रदेश का पत्रकार हमेशा ठगा गया है।सरकार की पत्रकार विरोधी नीति का ही परिणाम है कि आज तक प्रदेश में पत्रकार सुरक्षा कानून नही बन पाया।

 

पत्रकार सुरक्षा एवम कल्याण में सरकार की गैर जिम्मेदारी से अधिक मध्यप्रदेश में पत्रकारों की दुर्दशा के लिए स्वयम पत्रकार बिरादरी जिम्मेदार है।एकता का आभाव ही मध्यप्रदेश के पत्रकारों के विखंडन का मूल कारण है। दलों, कुनबो में बांटे पत्रकार अपने अधिकारों की रक्षा के लिए कभी एकजुट होकर सरकार से दो चार होना नही चाहते।अपने राजनैतिक आर्थिक हितों में उलझे मठाधीश जो पत्रकार संगठनों की रहनुमाई करते आएं है दशकों से वह सरकार के खिलाफ जाना पसंद नही करते।फलस्वरूप पत्रकार विशेषकर ग्रामीण इलाकों का कर्मठ पत्रकार कभी प्रशासन तो कभी पुलिस के निशाने पर रहता है।भूमाफिया,खनन माफिया,आबकारी,अपराधियों के लिए सिरदर्द बना पत्रकार,भ्रष्ट अधिकारी कर्मचारियों के शिकार हो जाते हैं। वक्ति तौर पर कुछ दिन हो हल्ला होता है फिर ठंडा पढ़ जाता है।चाहे पत्रकार की हत्या,हत्या का प्रयास हो या झूठे मुकदमे बाज़ी। मामला गर्म रहने तक सुर्खियां बटोरने वाले पत्रकार कब समझोते की काली चादर में दब जाते हैं पता ही नही चलता। परंतु प्रदेश व्यापी आंदोलन कर अपनी सुरक्षा और कल्याण के लिए एकजुट होना इनको आता नही या यह कहो कि उनके आका एकजुट होने नही देते।

 

2016से लगातार पत्रकार सुरक्षा एवम कल्याण के लिए प्रयासरत रहने के दौरान मुझे यह आभास हुआ कि हर नेता अपनी रोटी सेंक रहा है उसे पत्रकार समाज से कोई सरोकार नहीं।वह जानता है कि भैड बकरी की भांति उपयोग आने वाले पत्रकारों को कब और कैसे उपयोग करना है। जनसंपर्क विभाग/संचालनालय में अपने रसूख का उपयोग कर तिजोरियां भरते मठाधीश पत्रकार समाज की अंतिम पंक्ति में खड़े पत्रकार की चिंता नहीं करता।उसे अपने भंडारे भरने की फिक्र ज्यादा रहती है। यही कारण है कि देश आजादी की 75वीं वर्ष गांठ मना रहा है वहीं इन 75सालों में देश में पत्रकारों की रक्षा एवम कल्याण के लिए कोई कानून नहीं होना हास्यास्पद लगता है।आज देश में पशु पक्षियों , जीव जंतुओं के लिए कानून है परंतु पत्रकारों के लिए कानून आज तक बना हो नही है।

केंद्र सरकार अपना पल्ला झाड़ते हुए प्रदेश सरकार पर ठीकरा फोड़ देती है और प्रदेश सरकार मूक बधीर बन कर सब होता देखती है। पत्रकारों की आहुति चढ़ाई जाती है,झूठे मुकदमे दर्ज किए जाते हैं परंतु कोई आवाज नहीं सुनाई देती। मामला गर्म रहने तक शोले दिखाई देते हैं बाद में राख में तब्दील हो जाते हैं।पीड़ित को न्याय मिला या नही किसी को कोई सरोकार नहीं।

 

  • सैयद खालिद कैस

  • संस्थापक अध्यक्ष प्रेस क्लब ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट

पुलिस महानिदेशक के दरबार पहुंची कुक्षी टीआई के विरुद्ध शिकायत 

प्राकृतिक ईश्वरीय न्याय का नाम है सार्वलौकिक मां का अनुसरण