• India
  • Last Update 11.30 am
  • 26℃ India
news-details
छतरपुर

बूथ लूटना अपराध की श्रेणी के बाहर हुआ या महाराजपुर थाने में दर्ज नहीं होते मामले।

बूथ लूटना अपराध की श्रेणी के बाहर हुआ या महाराजपुर थाने में दर्ज नहीं होते मामले।

 

मध्य प्रदेश /छतरपुर:- स्वस्थ लोकतंत्र के लिए निष्पक्ष मतदान होना बेहद जरूरी है जिसके लिए भारत निर्वाचन आयोग निष्पक्ष निर्वाचन कार्य कराने के लिए प्रतिबद्ध होने के दावे करता रहता है।

बुंदेलखंड में बूथ लूटने जैसी घटना कोई नई बात नहीं हैं समय-समय पर ऐसे आरोप लगते रहे हैं कि कुछ जगह तो मामले न्यायालय तक भी पहुंच जाते हैं यह बात अलग है कि उनका फैसला आने में संभवत: पूरा अभ्यर्थी का कार्यकाल बीत ही जाता है निर्वाचन कार्य में लगे पीठासीन अधिकारियों द्वारा जिस भी अभ्यर्थी को जीत का प्रमाण पत्र दे दिया वही विजेता होता है।

 

बुंदेलखंड के छतरपुर जिले के नौगांव जनपद अंतर्गत महाराजपुर तहसील क्षेत्र के ग्राम पंचायत मनकारी में सरपंच पद पर विजय प्रत्याशी भुवानीबाई पति कालीचरण पटेल तो वही उपसरपंच के लिए पीठासीन अधिकारी शंभू दयाल गुप्ता बिना सुरक्षा के ही उपसरपंच के लिए वोटिंग कराई मतगणना कार्य में दोनों प्रत्याशी रामसनेही श्रीवास एवं शंकर सिंह ठाकुर को समान- समान वोट मिले एक मतपत्र अपात्र भी हुआ जिसमें पीठासीन अधिकारी शंभू दयाल गुप्ता पर पक्षपात करने एवं मतपत्र को अपने ही बैग में रखने के आरोप लगे घटना का समय ग्राम पंचायत मनकारी में12:30 बजे का था पीठासीन अधिकारी शंभू दयाल गुप्ता बूथ लूटने का मामला लेकर महाराजपुर थाने में 3:00 बजे पहुँचे थाने में महाराजपुर तहसील का पूरा अमला पहुंचने की भनक जैसे ही पत्रकारों को लगी तो निर्वाचन कार्य में लगे जिला प्रशासन के अधिकारियों में भूचाल आ गया निडर असुरक्षित मतदान कराने के सारे दावे की पोल खुल गई ।

 महाराजपुर थाने से 5 किलो मीटर दूर ग्राम पंचायत मनकारी से 12:30 बजे की घटना होने के उपरांत 3:00 बजे महाराजपुर थाने पहुंचने पर पीठासीन अधिकारी शंभू दयाल गुप्ता खुद ही फंसते नजर आए उनके हाथ-पैर फूल गए कैमरे पर ही अनुविभागीय अधिकारी का नाम लेते हुए प्रमाण पत्र देने की बात कर बिना एफ आई आर के मनकारी चले गए सूत्रों की माने तो आर्थिक लाभ लेते हुए बराबरी का मामला मनचाहे प्रत्याशी को प्रमाण पत्र देकर मामला समाप्त कर दिया गया छतरपुर जिले के महाराजपुर थाने में ना तो एफ आई आर दर्ज की गई है ना ही मामले को जांच में लिया गया।

पीठासीन अधिकारी शंभू दयाल गुप्ता के निष्पक्षता पूर्ण कार्य ने निर्वाचन व्यवस्था पर सवाल खड़ा कर दिया महाराजपुर थाने में पहुंचे पीठासीन अधिकारी ने बूथ लूटने का मामला दर्ज क्यों नहीं कराया.?

क्या पीठासीन अधिकारी शंभू दयाल गुप्ता ने अपने आप को बचाने के लिए बूथ लूटने की झूठी कहानी बनाई थी।

क्या चुनाव प्रचार में लाखों रुपए खर्च करने एवं चुनाव हारने के उपरांत पीठासीन अधिकारी ने आर्थिक लाभ के लिए झूठा मामला दर्ज कराने महाराजपुर थाने गए हुए थे.?

या निर्वाचन कार्य में लगे पीठासीन अधिकारी के आवेदन पर महाराजपुर थाने में मामला दर्ज नहीं किया ऐसे कई गंभीर सवालो का जवाब शायद ना मिले।...

✍@MP//छतरपुर//महाराजपुर:-खेमराज चौरसिया(आर टी आई कार्यकर्ता )

पुलिस महानिदेशक के दरबार पहुंची कुक्षी टीआई के विरुद्ध शिकायत 

प्राकृतिक ईश्वरीय न्याय का नाम है सार्वलौकिक मां का अनुसरण