• India
  • Last Update 11.30 am
  • 26℃ India
news-details

मशहूर पेंटर सारिका बंका की पेंटिंग्स की प्रदर्शनी

मशहूर पेंटर सारिका बंका की पेंटिंग्स की प्रदर्शनी "सत्व" का नेहरू सेंटर मुम्बई में हुआ उद्घाटन

चीफ गेस्ट श्री जयेश खाड़े, डॉ सुवि मनीष स्वामी, गेस्ट ऑफ ऑनर के रूप में प्रतिष्ठित लेखिका/पत्रकार प्रेस क्लब ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट्स की राष्ट्रीय सचिव श्रीमति शशि दीप, ऎक्ट्रेस आशी गौर, सिंगर प्रणव वत्स, शोनाली मिश्रा रहे उपस्थित

मशहूर पेंटर सारिका बंका की पेंटिंग्स की प्रदर्शनी "सत्व" का उद्घाटन कल 9 अगस्त को नेहरू सेंटर वर्ली मुम्बई में किया गया जहां कई सेलेब्रिटी गेस्ट्स भी मौजूद रहे। सभी मुख्य अभ्यागतों द्वारा सामूहिक रूप से दीप प्रज्वलित करते हुए तथा डाॅ सुवि व शशि दीप द्वारा सरस्वती मन्त्रोपचारण के साथ इस पेंटिंग एक्जीबिशन का शुभारम्भ हुआ। 

इस प्रदर्शनी की मास्टर माइंड व चीफ गेस्ट डॉ सुवि मनीष स्वामी (कैंसर थेरेपिस्ट, ईश्वरा लाइफ साइंसेज की डायरेक्टर) और मिस्टर जयेश खड़े (सोशल इंट्रप्रेनेउर) थे। जबकि यहां गेस्ट ऑफ ऑनर के रूप में मुंबई की प्रतिष्ठित लेखिका/पत्रकार श्रीमति शशि दीप, सुशांत सिंह (सुप्रसिद्ध बासुरी गुरु), टीवी ऎक्ट्रेस आशी गौर, सिंगर प्रणव वत्स, सिंगर शोनाली मिश्रा के अलावा कुछ और पेंटिंग प्रेमियों की उपस्थिति थी। यह प्रदर्शनी 9 अगस्त 2022 से 15 अगस्त 2022 तक चलेगी। यहां पेंटर सारिका बंका ने सभी मुख्य अभ्यगतों का स्वागत कुछ हैंडपिक्ड गुडीज (उपहार) व पुष्पगुच्छ देकर सम्मानित किया।

आपको बता दें कि सारिका बंका ड्राइंग और पेंटिंग पिछले 21 से अधिक वर्षों से कर रही हैं। भारत के राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित होने के साथ, सारिका बंका ने कैनवास पर आध्यात्म, भक्ति और कला-साधना का अनोखा संगम प्रस्तुत किया है। वह भारत और विदेशों में पुराने स्मारकों, मंदिरों और महलों में मूर्तियों सहित कला के विभिन्न रूपों से प्रेरित है। उनके चित्रों में रंगों और ब्रश के कुशल उपयोग के साथ दुनिया में प्रेम शांति, सद्भाव और एकता को दर्शाया गया है।

 

इस पेंटिंग एक्जीबिशन के बारे में सारिका कहती हैं कि सत्व दो शब्दों का मेल है, सत्य और तत्त्व। मुझे लगता है कि मेरे जीवन का उद्देश्य मेरे सत्य की खोज करना है, और इस यात्रा में मेरी मदद करने वाले सबसे आवश्यक हिस्से मेरे शाश्वत, आंतरिक और बाहरी पांच तत्व हैं। आप मेरे चित्रों में विस्तृत सत्व का सार देख सकते हैं।

 

डॉ सुवि मनीष स्वामी ने यहां बताया कि सारिका अध्यात्म से जुड़ी हुई हैं और इसी अध्यात्म ने उन्हें ऐसी पेंटिंग बनाने के लिए प्रेरित किया है। आध्यात्मिक लेखिका शशि दीप ने बताया कि सारिका से उनकी मुलाकात हाल ही में हुई लेकिन वे दोनों शायद दिव्य समायोजन के तहत जुड़ी और यही कारण है शशि दीप ने सारिका के कुछ आर्ट वर्क्स को शब्दों में अभिव्यक्त करने में मदद कर सकीं। सारिका ने डॉ सुवि मनीष स्वामी, शशि दीप व सुशांत सिंह व अन्य सभी जो उन्हें इस महत्वपूर्ण आयोजन को साकार करने में सहयोग प्रदान किये का तहे दिल से शुक्रिया अदा किया। इस मौके पर सारिका के सब परिवार उपस्थित थे। उनकी माताजी ने कहा कि सारिका को बचपन से ही पेंटिंग का बहुत शौक था और आज उनकी उपलब्धि देखने लायक है। वहीं उनकी सास ने कहा कि सारिका मेरी बहू है मगर बेटी की तरह मैं उसे मानती हूं, हम दोनों मां बेटी की तरह ही रहते हैं। भाभी जी घर पर हैं फेम अभिनेत्री आशी गौर ने कहा कि सारिका की पेंटिंग में बड़ी शांति और सकारात्मकता दिखाई देती है। हर पेंटिंग के पीछे एक कहानी है, अलग भावनाएं हैं। सिंगर प्रणव वत्स ने भी सारिका की पेंटिंग को पसन्द किया और कहा कि मैं कलम से रंग भरता हूँ और यह ब्रश से जीवन में रंग भर रही हैं।

  • Tags

पुलिस महानिदेशक के दरबार पहुंची कुक्षी टीआई के विरुद्ध शिकायत 

प्राकृतिक ईश्वरीय न्याय का नाम है सार्वलौकिक मां का अनुसरण